माऊंट एवरेस्ट के शिखर पर ठहरकर 24 घंटे तक तिरंगा लहराएगा रोहिताश खिलेरी

हिसार : कमांडो ऑफ माऊंटेन्स के नाम से प्रसिद्ध गांव मलापुर निवासी माउंट एवरेस्ट विजेता 21 वर्षीय रोहताश खिलेरी पुत्र सुभाष चंद्र बिश्नोई ने अपने पर्वतारोहण के जज्बे को चरम पर ले जाते हुए 24 घंटे तक माऊंट एवरेस्ट के शिखर पर ठहरकर देश का तिरंगा लहराने का विश्व रिकॉर्ड बनाने का लक्ष्य बनाया है। रोहिताश ने बताया कि माऊंट एवरेस्ट, किलिमंजरो व एलब्रुस की चढ़ाई के बाद उनका हौंसला और आत्मविश्वास काफी बढ़ा है और उन्हें पूरा यकीन है कि वे माऊंट एवरेस्ट की चोटी पर 24 घंटे तक ठहरने के लक्ष्य को भी हासिल कर लेंगे। हालांकि यह आसान नहीं है लेकिन भारत का नाम विश्व पटल पर चमकाने व इसका विश्व रिकॉर्ड भारत के नाम करने के सपने को वे साकार करना चाहते हैं।
रोहिताश ने बताया कि वह 2014 में मार्शल आर्ट खेलने के लिए काठमांडू गया था उसी समय उन्होंने पहली बार पहाड़ों को देखा था वहां के नागरिकों से पूछा कि इससे भी बड़ा कोई पहाड़ होगा तो उन्होंने कहा कि नेपाल का सबसे ऊंचा पर्वत  सागरमाथा है उसे माउंट एवरेस्ट के नाम से जाना जाता है उसी दिन से उन्होंने ठान लिया था कि वह भी एक दिन इस पर्वत के ऊपर चढूंगा।
उन्होंने बताया कि माउंट एवरेस्ट की चढ़ाई करना हर माउंटेनियर का सपना होता है हर कोई चाहता है कि वह भी अपने देश का नाम रोशन करे। उन्होंने बताया कि माउंट एवरेस्ट पर चढ़ाई करना तो दूर की बात उसके बारे में सोचना भी बहुत बड़ी बात है दूर से देखने पर पर्वत बहुत अच्छे दिखाई देते हैं पर पास जाकर जब हम उसकी चढ़ाई करना शुरू करते हैं तो हमें खुद की कैपेसिटी के बारे में पता चलता है और पर्वत के बारे में पता चलता है। 
haryana news in hindi Haryana news live popular अपना जिला चुनें खेल-खिलाड़ी हिसार

रोहताश ने बताया कि इसके बाद उन्होंने संसार के सातों महाद्वीप की ऊंची ऊंची चोटियों को फतह करने के अभियान की शुरुआत की 23 जुलाई 2018 को उन्होंने अफ्रीका महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी माउंट किलिमंजारो को  फतह  किया। 4 सितंबर 2018 को उन्होंने यूरोप महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी माउंट एलबु्रस पर फतह हासिल की। उन्होंने बताया कि उन्होंने मात्र 111 दिनों में उन्होंने माउंट एवरेस्ट माउंट किलिमंजारो माउंट एलबु्रस चोटी को फतह किया। गत 29 दिसंबर 2018 को उनके मन में कुछ करने का ऐसा भूत सवार हुआ कि उन्होंने सोचा कि मैं माउंट एवरेस्ट के शिखर पर ठहर कर 24 घंटे तक देश के तिरंगे झंडे को लहराऊं और देश का नाम दुनिया के नक्शे पर अंकित करूं। इसके लिए उन्होंने गूगल पर सर्चिंग किया और अपने गुरु भारतीय सेना के पैरा कमांडो अशोक शुक्ल और स्केकिंग की इंटरनेशनल प्लेयर विकास राणा से बात की और उनको बताया कि मैं 24 घंटे तक माउंट एवरेस्ट के शिखर पर रहना चाहता हूं एक बार तो वो भी अचंभित हो गई थे फिर उन्होंने कहा कि हमें कुछ सोचने का टाइम दो, उन्होंने माउंट एवरेस्ट पर चढऩे वाली इंटरनेशनल कंपनियों से चर्चा की पहले तो नेपाल सरकार ने माउंट एवरेस्ट के शिखर पर ठहरने के लिए परमिशन देने के लिए मना कर दिया था क्योंकि कंपनी अभी इतना बड़ा रिस्क उठाना नहीं चाहती थी अब दो कंपनी इस अभियान को पूरा करने की तैयारी कर रही हैं। अगर रोहिताश 24 घंटे तक शिखर पर रहने में कामयाब हो जाता है और सही सलामत वापस लौटता है तो वह दुनिया की सबसे ऊंची चोटी पर ठहरने वाले पहले इंसान होगा।
रोहितास की अब तक की अचीवमेंट्स
दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट 16 मई 2018 (नेपाल)
अफ्रीका महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी माउंट किलिमंजारो 23 जुलाई 2018 
यूरोप महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी माउंट एलब्रुस 4 सितंबर 2018

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *