कम नहीं हुआ राम रहीम के डेरे का प्रभाव, लोकसभा चुनाव में हर दल चाहता है समर्थन

न्यूज़ डेस्क: लोकसभा चुनाव की सरगर्मियां अपने चर्म पर हैं। चुनाव में अपनी जीत सुनिश्चित करने के लिए सभी राजनीतिक दल हर संभव हथकंडे अपना रहे हैं। ऐसे में अब सभी राजनीतिक दलों की नज़र डेरा सच्चा सौदा के वोट बैंक पर है। सूबे के सभी राजनैतिक दल डेरा श्रद्धालुओं के वोट पर गिद्ध दृष्टि लगाये बैठे हैं। लगभग सभी दलों के नेता डेरे से समर्थन मिलने के लिए कई तर्क पेश कर रहे हैं।

बता दें सिरसा के डेरा सच्चा सौदा का प्रभाव हरियाणा पंजाब और राजस्थान में है। इन तीन राज्यों में डेरा सच्चा सौदा के श्रद्धालुओं की वोटर काफी तादाद में है। हालांकि डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम जेल में सजा काट रहा है। लेकिन आज भी डेरा के अनुयायियों में राम रहीम के प्रति आस्था बरक़रार है। पिछले लोकसभा चुनाव में और हरियाणा के विधानसभा चुनाव में डेरा सच्चा सौदा ने भाजपा को समर्थन दिया था। अब एक बार फिर चुनावी मौसम है तो नेताओं की नज़र डेरा सच्चा सौदा के वोटर्स पर है।

यहां आपको बता दें डेरा सच्चा सौदा की एक राजनितिक विंग है जो इस तरह से फैसले लेती है। लेकिन गुरमीत राम रहीम के जेल में जाने के बाद से राजनितिक विंग इतनी सक्रीय नहीं है। पिछले कई चुनावों में डेरा सच्चा सौदा में कई राज्यों के नेताओं ने दस्तक दी थी। अब एक बार फिर जब चुनाव नजदीक हैं तो सूबे के राजनितिक दल डेरे से समर्थन की बात कह रहे हैं।

भाजपा के नेता डेरा सच्चा सौदा का समर्थन लेने की बात कर रहे हैं। वहीं इनेलो नेता अभय चौटाला ने कहा कि डेरा के अनुयायी भी वोटर हैं, वो काफी समय से डेरे में आते-जाते रहे हैं। डेरे का समर्थन मांगने के लिए भी वह जायेंगे। वहीं कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर का कहना है की वो भी इन चुनावो में डेरे का समर्थन मांगेंगे।

Leave a Reply